X
    Categories: HOME

ट्रैन से सफर करते है तो अपने साथ कितना समान ले कर जा सकते है||Indian Railways bags Rules

ट्रैन से सफर करते है तो अपने साथ कितना समान ले कर जा सकते है||Indian Railways bags Rules

आज के हमारे इस पोस्ट में हम जानेंगे की अगर आप ट्रैन से सफर करते है तो आप अपने साथ कितना समान ले कर जा सकते है तो दोस्तो इसी से रिलेटेड आज के हमारे इस पोस्ट में आपको पुरी जानकारी मिलेगी।

भारत में आज भी लोग दूरो – दूर का सफर तय करने के लिए रेलवे संसाधन का ही सहारा लेते हैं। हर रोज भारतीय रेलवे में लाखों लोग सफर करते हैं, जो एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हैं। भारत की रेल व्यवस्था दुनिया का दूसरी सबसे बड़ा रेल नेटवर्क मान जाता है।

अक्सर जब आप एक जगह से दूसरी जगह का सफर करते हैं, तो अपने साथ कई सारा सामान लेकर जाना पसंद करते हैं। मगर अक्सर कई बार ऐसा होता है कि अधिक सामान को ले जाने की अनुमति नहीं दी जाती है, क्योंकि भारतीय रेल की विभिन्न नियमों के तहत एक नियम यात्रियों के सामान से संबंधित भी है। जिसके बारे में बहुत ही कम लोगों को जानकारी होती है और इसके तहत एक तय सीमा से अधिक सामान लेकर भारतीय रेल में सफर करने की अनुमति होती है। तो चलिए इस नियम के बारे में विस्तार से जानते हैं…

ट्रेन का सफर हमेशा लंबी दूरी की यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए पहली पसंद रहा है सफर किफायती तो होता ही है साथ ही सस्ता होता है. साथ ही साथ रेलवे कुछ ऐसी सुविधाएं भी है जो अपने यात्रियों को देता है जो दूसरे साधनों से यात्रा करने पर आपको नहीं मिलती. जैसे आप फ्लाइट या बस से भी यात्रा करते है तो उन सबके मुकाबले आप ट्रेन में कहीं ज्यादा सामान ले जा सकते हैं. हालांकि ट्रेन से सफर के दौरान भी सामान ले जाने को लेकर एक सीमा तय है. ऐसा नहीं है कि आप अपने साथ जितना चाहे उतना सामान ले जा सकते हैं. रेलवे ने इसे लेकर कुछ नियम भी बनाए हैं. आज हम आपको उन नियमों के बारे में पुरी जानकारी देंगे.

बड़े आकार के सामानों पर लगता है इतना शुल्क.

ट्रैन से यात्रा के दौरान अपने साथ बड़े आकार के समान लेकर चलने वाले लोगों को भी शुल्क लगता है इसके लिए उन्हें कम से कम 30 रुपए देना होता है और उसमे अगर 100kg से ज्यादा वजन का समान होता है तो उस पर आपको डेढ़ गुना ज्यादा सुल्क देना होता है।

मेडिकल का समान है तो उसके लिए यह नियम है।

कई बार आप मरीज के साथ भी रेल यात्रा करते हैं। ऐसे में उनके जरूरत की सामानों को लेकर रेलवे के अलग नियम है, जिसके तहत डॉक्टर की सलाह पर मरीज अपने साथ ऑक्सीजन सिलेंडर और स्टैंड ले जा सकते हैं।

ट्रैन। में सफर के दौरान इस तरह का समान नही ले जा सकते।

रेलवे बोर्ड के द्वारा आपको रेल यात्रा के दौरान किसी भी प्रकार विस्फोटक या ज्वलनशील वस्तु ले जानें की अनुमित नहीं है। शुल्क भरने के बाद भी आप अधिकतम 100 kg से ज्यादा समान नही ले कर जा सकते है।

जिस ट्रैन में आपका समान है उस ट्रैन में आपका सफर करना अनिवार्य है

जो सामान की बुकिंग करते है उन्हे उसी ट्रेन में ही सफर करना अनिवार्य है. गंतव्य पर गाड़ी के पहुंचने के आधे घंटे के अंदर यात्रियों को अपना सामान ले जाना होता है. अधिक समय होने पर समय के अनुसार चार्ज देना होता है. इसके अलावा ट्रेन के चले जानें के बाद समय के अनुसार चार्ज देना पड़ता है आप जितना लेट करेंगे आपका उतना चार्ज लगेगा

अगर आप सामान की बुकिंग कराते है तो उनका चार्ज कुछ इस प्रकार है।

जो भी सामान आप बुक कराते हैं उस सामान की बुकिंग का चार्ज 100 किलो से ऊपर वाले पैकेज पर लागू होता है इसमें कम से कम वजन वाले सामान को 100 किलोग्राम का ही माना जाएगा चाहे उसका भार 100 किलोग्राम से कम ही क्यों ना हो और इसमें आपको सीमा में 10% तक की छूट भी मिलती ह

विस्फोटक पदार्थ जैसे सामानों की नहीं होती है बुकिंग

वहीं विस्फोटक पदार्थ, खतरनाक और ज्वलनशील समान और खाली गैस सिलेंडरों को बुक करने की अनुमति नहीं है. ट्रंक्स, सूटकेस और 100×60 सेंटीमीटर वाले बाक्सों को यात्रियों को अपने साथ ले जाने की अनुमति है. मरीज़ों को डॉक्टरों की सलाह पर ऑक्सीजन सिलेंडर और स्टैंड को ले जाने अनुमति है.

रेल मंत्रालय ने (Ministry of Railways) ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर लोगों से सफर के दौरान जरूरत से अधिक सामान लेकर सफर ना करने की सलाह दी है. मिनिस्ट्री ने कहा, “अगर सामान होगा ज्यादा, तो सफर का आनंद होगा आधा! ज्यादा सामान ले कर रेल यात्रा ना करें इस से आपका यात्रा भी भंग होगा और दुसरे रेल यात्रियों को भी आपके समान के वजह से तकलीफ होगी. सामान अधिक होने पर पार्सल कार्यालय जा कर लगेज बुक कराएं और अपना ज्यादा समान पार्सल के थ्रू ले जाएं

रेलवे के नियमों (Indian Railways bags Rules) के मुताबिक, पैसेंजर्स ट्रेन में अपने सफर के वक्त 40 से 70 kg समान अपने साथ लेकर यात्रा कर सकते है अगर कोई इससे ज्यादा सामान लेकर यात्रा करता है, तो उसे अलग से और ज्यादा किराया देना होगा. रेलवे के कोच के हिसाब से सामान का वजन अलग निर्धारित किया गया है.

रेलवे (Indian Railways) नियमों के अनुसार, कोई भी पैसेंजर्स स्लीपर क्लास में अपने साथ ज्यादा से ज्यादा 40 kg तक का समान अपने साथ ले जा सकते है और अगर वह एसी टू टीयर में सफ़र करते है तो 50kg तक का समान ले कर जा सकते है और वहीं आप अगर पैसेंजर्स फर्स्ट क्लास एसी में सफ़र कर रहें होंगे तो वह अपने साथ 70के तक के वजन के समान ले। कर जा सकते है ।

तो दोस्तो आपको रेलवे का यह नियम जान कर अच्छा लगा होगा अगर आपको आज का हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो हमे जरुर कॉमेंट में बताए आशा करुंगा रेलवे के नियमों (Indian Railways bags Rules) के इन नियमो के बारे में आपको पुरी जानकारी मिल पाईं होगी दोस्तो आज के हमारे इस पोस्ट से रिलेटेड आपके कोई भी क्वेश्चन हो कोई भी कोई हो तो वह भी आप हमसे कमेंट में पूछ सकते हैं दोस्तों अगर आप हमारा या पुरुष यहां तक रीड कर रहे हैं तो आपका बहुत-बहुत धन्यवाद दोस्तों ऐसे ही और नॉलेज वाले पोस्ट पढ़ने के लिए आप हमारे और भी अदर पोस्ट देख सकते हैं तो दोस्तों आज के हमारे पोस्ट में बस इतना ही धन्यवाद।

ट्रैन से सफर करते है तो अपने साथ कितना समान ले कर जा सकते है||Indian Railways bags Rules

Pankaj mishra: